Home » आत्मविश्वास की शक्ति क्या है? क्या सफलता के लिए आत्मविश्वास जरूरी है?

आत्मविश्वास की शक्ति क्या है? क्या सफलता के लिए आत्मविश्वास जरूरी है?

आत्मविश्वास की शक्ति

जिस किसी में भी आत्मविश्वास नहीं होता हैं, तो वह एक प्रकार से मृत समान ही है। क्योंकि आत्मविश्वास से ही आप जीवन में सफलताएँ, उपलब्धियाँ और खुशियाँ पाते है। तो आइए जानने की कोशिश करते है। की आखिर क्या है आत्मविश्वास की शक्ति ? क्या सफलता के लिए आत्मविश्वास जरूरी है?

आत्मविश्वास क्यों जरूरी है ?

जब आपके अंदर आत्मविश्वास होता है तो आपकी सफलता आपके साथ हमेशा बना रहती है और आपको सफल बनाने के लिए प्रेरित करती रहती है। आत्मविश्वास के वजह से आप अपने लक्ष्य को आसानी से पूरा कर सकते है और जीवन की उन ऊंचाइयों तक पहुंच सकते है जंहा सफलता आपके पीछे पीछे आएगा। आत्मविश्वास से प्रेरित होकर आप अपने जीवन मे जो कुछ भी करना चाहते हैं वह सबकुछ बहुत आसानी से कर सकते हैं।

आत्मविश्वास का अर्थ है अपने काम में अटूट श्रद्धा। आत्मविश्वास का अभाव ही सभी अंधविश्वासों का जनक है। एक बार जब आपके अंदर आत्मविश्वास की कमी हो जाती हैं तो परेशानियों से घिरने लगते है। फिर परिस्थितयां बदल जाती है। और आप असफलता की ओर मुड़ जाते है। जब तक आपके अन्दर आत्मविश्वास रहेगा तब तक आप सफलता की ओर आगे बढ़ते है और जैसी आपके आत्मविश्वास में कमी आती है। फिर आपके अंदर का वो सारा ऊर्जा, वो सारी ताकते, वो सारी आदते जो आपको अपने लक्ष्य तक पहुचा सकते थे वो सब टूटने लगता है और अंत मे आप जिंदगी रेस में पीछे रह जाते है।

जो आत्मा से ही परिचित नहीं, उसमें आत्मविश्वास कैसे हो सकता है? आत्मविश्वास में वह अटूट शक्ति है जिससे मनुष्य हजारों विपत्तियों का सामना अकेला कर सकता है। निर्धन मनुष्यों की सबसे बड़ी पूंजी और मित्र उनका आत्मविश्वास ही है। कई बार आप देखे होंगे कि आत्मविश्वास के कारण धनहीन होते हुए भी कितने ही लोगो ने ऐसे काम किए हैं, जो धनवान कभी भी नहीं कर पाए। क्योंकि आत्मविश्वास की शक्ति ही ऐसा है कि किसी को भी महान बना देता है।

सच्चा आत्मविश्वास पर्वतों को भी हिला देता है। इसलिए  आप अन्य चाहे जिस पर शक करें, स्वयं पर कदापि न करें। आत्मविश्वास, आत्मज्ञान और आत्मसंयम – ये तीन ही जीवन को परम शक्ति और सम्पन्न बना देता हैं। बड़े-बड़े विद्वानों का कहना भी यही है कि आत्मविश्वास ही सफलता का प्रथम और मुख्य रहस्य है। आत्मविश्वास की शक्ति ही वो ऐसी शक्ति है जिससे कोई महान और सफल इंसान बन सकता है।

आत्मविश्वास के जैसा कोई  दूसरा मित्र नहीं हैं। आत्मविश्वास ही भावी उन्नति का मूल आधार है। गुणों में आत्मविश्वास पैदा हो जाता है, यदि उनके लिए बड़े लोगों से सम्मान प्राप्त हैं। सभी लोग तुम्हारे दुश्मन हो जाएंगे यदि तुमने आत्मविश्वास खो दिया। जब तक हममें आत्मविश्वास है , तब तक हम संसार में कुछ भी करके दिखा सकते है। इसीलिए तो कहते है कि आत्मविश्वास ही सफलता का मुख्य रहस्य है।

कठिन कार्य में सफल होने पर आत्मविश्वास बढ़ जाता है। आत्मविश्वासी समुद्र के मध्य जहाज नष्ट हो जाने पर भी तैरकर उसे पार कर लेता है। आत्मविश्वास के बिना कभी महान् कार्य करने की कोशिश न करें। क्योंकि आत्मविश्वास ही भावी उन्नति की प्रथम सीढ़ी है। हमेशा ये आत्मविश्वास रखो कि तुम पृथ्वी पर सबसे महत्त्वपूर्ण हो।

आत्मविश्वास-की-शक्ति-क्या-है-क्या-सफलता-के-लिए-आत्मविश्वास-जरूरी-है

 

सबसे पहले आत्मविश्वास करना सीखो क्योंकि अपने आत्मविश्वास और चरित्र के बल पर एक साधन रहित व्यक्ति भी महान् सफलता प्राप्त कर सकता है। यह कभी न भूलो कि किसी भी कठिनाई का नतीजा अविश्वास नहीं है, क्योंकि अविश्वास से कठिनाई पैदा होती है। आत्मविश्वास की ज्ञान को अमूल्य मानो, ज्ञान कर्म से प्राप्त होगा अन्यथा जीवन में सदैव भटकाव रहेगा ।

जहाँ भी आप जाएँ अपने आत्मविश्वास को साथ लेते जाएँ। यह आत्मविश्वास रखो कि आप धरती के सबसे आवश्यक इंसान हो। क्योंकि परीक्षाएँ तब तक कठिन मालूम होती हैं जब तक कि परिश्रम से, जी जान से और आत्मविश्वास से आप उसका मुकाबला नहीं करते। आप यदि ज्ञान के प्रकाश का दीपक बुझा दोगे , तो व्यावहारिक जिंदगी में एक कदम भी आत्मविश्वास से नहीं चल सकोगे।

मेरी शक्ति दस लोगों की शक्ति के बराबर है क्योंकि मेरा हृदय पवित्र है। ऐसा विश्वास अपने अंदर रखना जरूरी है। कठिनाई और विरोध एक ऐसी मिट्टी है। जिसमें शौर्य और आत्मविश्वास का विकास होता है। इसलिए हमेशा आत्मविश्वास बनाय रखे, विपरीत परिस्थितियों से घबराय नही। चाहे परिस्थितयां कितना भी खराब क्यों न हो। क्योंकि विपरीत परिस्थितियों में एक आत्मविश्वास ही है जो आपको इन परिस्थितियों से निकाल सकता है।

परीक्षा में खरे उतरने वालों में आत्मविश्वास सदा रहा है।  पुरातन धर्म भी यही कहता है कि जो ईश्वर में विश्वास न रखे वह नास्तिक है। जो साहित्य मनुष्य समाज के रोग, शोक, दरिद्रता, अज्ञान तथा परमुखापेक्षिता से बचाकर उसमें आत्मबल का संचार करता है, वह निश्चय ही अक्षय निधि है।

दोस्तो उम्मीद करता हुं की हमारे पोस्ट ‘आत्मविश्वास की शक्ति क्या है? क्या सफलता के लिए आत्मविश्वास जरूरी है?’ को पढ़ कर आपके आत्मविश्वास में और अधिक  इजाफा हुआ होगा। तो अपने दोस्तों के साथ भी सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करे।

Similar Posts

अपनी प्रतिक्रिया दें !