Home » परेशानी को कैसे दूर करे, परेशानी क्या है और परेशानी आने पर क्या करे ?
|

परेशानी को कैसे दूर करे, परेशानी क्या है और परेशानी आने पर क्या करे ?

जीवन में परेशानी आना स्वभाविक है। लेकिन जब उस परेशानी को हम दूर कर लेते है। तो जिंदगी की गाड़ी दुबारा पटरी पर आ जाता है। लेकिन ये तभी होता है जब हम परेशानियों को दूर कर लेते है। अगर आपको भी अपने परेशानियों को दूर करने में परेशानी हो रहा है। तो बने रहिये हमारे साथ क्योंकि हो सकता है कि आपको अपने परेशानी दूर करने में मदद मिल जाये और आपका परेशानी दूर हो जाये। तो आइए देखते है कि परेशानी को कैसे दूर करे?

क्या होता है परेशानी ?

परेशानी अर्थात एक ऐसी अवस्था जिसमे हमारा मन व्याकुल रहता है जिससे हम जल्द से जल्द छुटकारा पाना चाहते है। परेशानी हमारे जीवन की एक ऐसी अवस्था है जिसमे हमारा मन बिखर जाता है। हमारे अंदर एक ऐसी कष्ट या दर्द रहता है जो किसी दवा से ठीक नही होता है। परेशानी एक प्रकार का मानसिक दबाव होता है जिसके कारण हम और परेशानियों में घिरते जाते है। कभी कभी तो ऐसे समय आता है कि हम परेशानी के कारण गलत फैसले भी लेते है और परेशानियों से पूरी तरह घिर जाते है।

 

pareshani-ko-kaise-dur-kare-pareshani-kya-hai-aur-pareshani-aane-par-kya-kare

परेशानी को कैसे दूर करे?

जब तक हम अपनी परेशानी दूर नही कर लेते तबतक हमारा मन शांत नही होता है। इसलिए इसे जल्द से जल्द दूर करने में ही भलाई है। तो आइए समझते है कुछ बातों को जिससे परेशानी दूर हो जाये।

परेशानी को समझे –

अगर परेशानी दूर करना है तो सबसे पहले हमें अपने परेशानी को समझना होगा। कि आखिर परेशानी क्यों हो रहा है। जब एक बार हम अपने परेशानी का कारण जान लेते है तो परेशानी दूर करने में बहुत आसान हो जाता है।

परेशानी से दूर न भागे –

जिस किसी से परेशानी है तो उसे गंभीरता से ले। उसे इग्नोर न करे। मानलीजिए अगर आपको किसी व्यक्ति से परेशानी है तो उसे बात करने की कोशिश करे। हो सकता है वो आपके बातों को समझ जाए और आप जैसा चाहते है वैसा हो जाये और आपका परेशानी दूर हो जाये।

मन को शांत रखे –

अगर आप किसी भी चीज को लेकर परेशान है तो सबसे पहले अपने मन को शांत रखे। नही तो परेशानी और अधिक बढ़ जाएगा। जब आपका मन शांत हो जाये तो फिर सोंचे आपको क्या करना है क्या नही करना है। अगर आपका मन शांत रहेगा तो आपको सोंचने में आसानी होगा। आपका दिमाग भी ठीक रहेगा। आपके घर परिवार में भी तनाव नही होगा। इसलिए मन को हमेशा शांत रखे।

सकारात्मक सोंच रखे –

जब भी किसी प्रकार का परेशानी या विपत्ति आता है तो मन में दुनियाभर के बातें आने लगता है। ऐसे विपरीत परिस्थितियों में मन को काबू करने के लिए अपने सोंच में अपने मन मे अपनी पूरी अवस्था मे सकारात्मक लाना बहुत जरूरी होता है। जब सकारात्मक रूप से किसी काम को करेंगे तो उसमें सफलता मिलना स्वभाविक हो जाता है। इसलिए सकारात्मक रहे और मन मे किसी भी प्रकार का नकारात्मक विचारों को न आने दे।

अपनो से सलाह ले –

अगर आप किसी चीज को लेकर परेशान है और आपसे वो परेशानी दूर नही हो रहा है तो आप अपने किसी के साथ विचार प्रकट कर उससे सलाह ले सकते है। क्योंकि की कई बार दुसरो से सलाह लेने अच्छा होता है। हो सकता है उनके पास आपके परेशानी का हल हो। इसलिए अपनो का साथ बहुत जरूरी होता है। लेकिन याद रखे कि सलाह हमेशा अच्छे विचार वालो से ही ले और आपको सही लगे तो उसको सोच विचार कर करे। कई बार गलत सलाह भारी पड़ जाता है।

अपनो का साथ बनाए रखे –

जब भी हम किसी परेशानी में उल्ज़ते है तो उसमें सबसे ज्यादा जरुरी होता है अपनो का साथ। जब अपनो का साथ होता है तो बड़ी से बड़ी परेशानी दूर हो जाता है। सबसे अच्छी बात ये है कि हम किसी अपने के साथ अपनी परेशानी को खुलकर बता सकते है। इससे किसी समस्या या परेशानी को दूर करने बहुत हद तक मदत मिलता है।

ज्यादा भावुक न हो –

कई बार क्या होता है कि हम किसी चीज को लेकर इतना भावुक या इमोशनल हो जाते है कि छोटी सी परेशानी गंभीर और बड़ा लगने लगता है। ऐसे समय में भौक होना ठीक नही होता है बल्कि धैर्य से काम ले और अपने मन को भरोसा दिलाओ की सब ठीक हो जाएगा। इस तरह आपके परेशानी भी कम होने लगेगा। और आप अच्छा महसूस करेंगे।

आत्मविश्वास बनाये रखे –

कामयाब होने के लिए या कोइसा भी परेशानी को दूर करने के लिए आत्मविश्वास बनाये रखना बहुत जरूरी है। जब तक आपके अंदर आत्मविश्वास रहेगा आप हारेंगे नही। बल्कि आपके परेशानी को दूर करने में मदद मिलेगा। आप अंदर से मजबूत रहेंगे। चाहे परिस्थिति कितनो भी क्यों न बढ़ जाये आप टूटेंगे नही। और आप जब टूटेंगे नही हो परेशानी धीरे घिरे सामान्य होने लगेगा।

चिंता न करे –

जब आप किसी परेशानी से घिर जाते है तो कभी चिंता न करे कि अब क्या होगा, कैसे होगा, क्या सब कुछ खत्म हो जाएगा, ये सब फिजूल की बातों का चिंता करके अपना कीमती समय बर्बाद न करे। बल्कि इस समय ये सोंचे की समस्या का हल कैसे निकाले। व्यर्थ की चिंता बिल्कुल न करे। क्योंकि चिंता चिता के समान होता हैं।

किसी तंत्रमंत्र वाले के झांसे में न आये –

कभीं कभी कई लोग परेशानी को लेकर जैसे घर की परेशानी, व्यापारिक परेशानी, ऑफिस की परेशानी, रिस्तो की परेशानी को तंत्र मंत्र वालो के पास चले जाते है। जो कि केवल एक ढ़ोंगी है। आपके परेशानी का हल आप स्वयं निकाल सकते है। किसी के बहकावे या झांसे में न आये। नही तो बहुत भारी नुकसान हो सकता है।

जीवन मे परेशानियां तो आते जाते रहते है। लेकिन जरूरी ये है कि हम उसका डट के सामना करे। किसी भी विपरीत परिस्थिति या परेशानी से घबराए नही। बल्कि उनका मुकाबला करे। परिस्थिति आज नही तो कल ठीक हो ही जाता है। क्योंकि समय हमेशा एक बराबर नहीं होता है। समय बदलता है और परिस्थिति भी धीरे धीरे सामान्य होने लगता है। इसलिए हमेशा धैर्य बनाये रखे, और हमेशा ये सोंच कर चले कि जो भी हो रहा अच्छा के लिए हो रहा है। क्योंकि ईश्वर भी किसी के साथ अन्याय नही करता। अपने ईश्वर पर भरोसा रखिये और मस्त रहिए।

उम्मीद है कि परेशानी को कैसे दूर करे, परेशानी क्या है और परेशानी आने पर क्या करे ? से आपके परेशानी थोड़ी बहुत कम हुआ होगा।

Similar Posts

अपनी प्रतिक्रिया दें !